Categories
Musings poetry

प्रकृति की प्रेम कहानी

प्रकृति की प्रेम कहानी
है बहुत सीधी – साधी,
लेकिन ये कहानी,
किसी किसी को ही
समझ मे है आती।
कण कण को बटोर कर,
कभी कोई चीज़ बनाती।
कभी पल में ही किसी,
पहाड़ को मिट्टी में है मिलाती।
प्रकृति की प्रेम कहानी
है बहुत सीधी साधी,
लेकिन ये कहानी
किसी को ही
समझ मे है आती।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

हाथों की लकीरें और पत्थर

हाथों की लकीरें और पत्थर,
दोनों को ही बदलना मुश्किल होता है।
लेकिन किसी न किसी दिन,
ये दोनों बदल के ही रेहते हैं।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

जिंदगी की रफ्तार

जिंदगी की रफ्तार कुछ धीमी हो गयी,
मंदी के दौर में घरबन्दी हो गयी।
मई के महीने में भी,
यहाँ ठंडी हो गयी।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

किताबें आईना हैं

पन्ने पन्ने बोलते नज़र आते हैं,
हर एक शब्द
कहानियों का रास्ता दिखाते हैं,
कभी हँसाते हैं, कभी रुलाते हैं,
कभी सही राह दिखाते हैं,
हर पन्ने राज़ खोलते हैं।
किताबें, किताबें नहीं
आईना है दुनिया की।
ये किताबें सिर्फ कहानी नहीं,
खाब भी बोलती हैं।
कभी किसी के खाब,
पूरी करती हैं,
कभी उन सपनों का रास्ता दिखती है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

गलतफ़हमी

गलतफ़हमी का क्या दोष,
हम ही बुला लेते हैं उसे।
गलतफ़हमी तो,
गलती से भी आये,
फिर भी सही नही होता
और सही हो तो,
उसे पल में
मानना मुश्किल होता है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

जिंदगी की प्लेट में

जिंदगी की प्लेट में,
व्यंजन कई देखें।
कभी खट्टे कभी मीठे देखे
कड़वाहटों से भरे भी,
कई व्यंजन मिले,
लेकिन उन कड़वाहट वाले
व्यंजनों ने,
मजबूती के ही पोषण दिए।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

आखरी पन्नों की बातें

कहानी किसी की,
कभी पूरी नही होती।
रह जाती हैं,
कई बातें अधूरी।
बातें किसी की,
पूरी नही होती।
आखरी पन्नों की,
बातें भी कभी – कभी,
दूसरे किताबों से शुरू है होती।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

आसान नहीं होता…

दुनिया के घेरे में,
हर सोंच है घिरा हुआ।
दुनिया के जताने से,
दुनिया बदल नही जाती।
किसी के कह देने से,
कोई भटक नहीं जाता।
दुनिया की रीत में,
कोई आये न आये
दुनिया की समझ में
सब आता है।
कौन कहता है,
पत्थर टूटता नहीं,
हथोड़े के एक वार से वो
चकना चूर हो जाता है।
हवाओं का रुख,
कोई बदल नहीं सकता
बदल दिया तो कोई,
उसे रोक नहीं सकता,
तूफानों को मोड़ना,
आसान नहीं होता।
कभी खुद मैदान में
उतर के देखो
सच्चाई के लिए लड़ना,
आसान नही होता।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

रोज़ ही किया

दुनिया के लिए नही अपने लिए,
रोज़ ही किया
किसी दूसरे के लिए,
अब करना है सिर्फ खुद के लिए,
दुनिया तो खुद ब खुद,
अच्छी लगने लगेगी।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

राजनीति एक सर्कस

सर्कस, राजनीति की
बहुत गहरी है।
राजनीति एक सर्कस है
ये बात सच्ची है।
लोग चाहे जो कहे
बस कोई न कोई
उदास कर ही देती है।
राजनीति सर्कस सी ही है,
दोनों ही,
कभी हँसाती हैं,
कभी रुलाती हैं।

– मनीषा कुमारी