Categories
Musings poetry

नफरत की आग

कैसी है ये दुनिया
कैसा है ये मानव
नफरत से नफरत की आग में,
सारे हैं अभिमान में,
जान के ये दुनिया की रीत,
झुलस रहे नफरत की आग में।
धन दोलत तो है ही वजह,
बिन वजह भी नफरत है छाई।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

समय की डोर….

बीतता जाता है समय,
निकलती जाता है समय।
लेकिन जिंदगी भी तो थमती नही,
वक्त निकलता जाता है।
वक्त कभी थमता नही,
बीतता जाता है समय।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

मज़ाक बनाने वालों

जिनकी खुद की जिंदगी का कुछ पता नही,
वे हमें जिंदगी जीना सीखा रहे ।
जो खुद न बोल पाते एक शब्द सही से ,
वो हमे बोलना सीखा रहे।
दूसरों का मज़ाक उड़ाने वालों ,
तुम खुद एक मज़ाक ही हो।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

वो तो एक उजाला है

वो तो एक उजाला है,
नदियों की बहती धारा है,
कभी तेज कभी मंद है।
चिड़ियों की चह – चहाट है,
वो झरने का पानी है,
पेड़ो की हरियाली है ,
कभी सुखी कभी निराली है।
समुन्द्र की गहराई है ,
आसमान की ऊंचाई है,
शक्तियों का उजला है वो ,
ईश्वर के समान है,
वो तो एक अदभुत कला है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

जिंदगी

शायर हम नही ,

यह जिंदगी बनाती है ।

कवियों को कवि ,

यह हालात बनाती है।

तकदीर बदलती मुसीबतें,

यह सांप सीढ़ी का खेल है।

जाने अनजाने में ,

खेल जाती कई दाव है।

क्या कहे सुख दुख को

यही जिंदगी कहलाती है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

आज की दोस्ती

दोस्त ने कहा मुझसे ,

और बताओ क्या बात है ।

हमने दोस्त से कहा,

परेशान हु मैं बहोत

तुम बताओ क्या बात है ।

हमारा परेशान शब्द सुन ,

वे बोले चलो फिर कल मिलते है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

हार न मानना….

अगर कोई तुझे मारे,

तो खा लेना मार।

अगर कोई करे परेशान,

तो हो जाना शांत।

आलोचनाओं से डर कर,

न मानना कभी हार।

लेकिन ले के अपने लक्ष्य को साथ,

बढ़ते रहना आगे हर बार ।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

चिंता

चिंता खुशी को

खुशी चिंता को

परेशान करती है ।

फिर भी ,रहती संग संग

दोस्ती इनकी निराली है ।

जमाना करता दूर इन्हें

फिर भी ,साथ रहने की इन्होंने ठानी है ।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

मेहनत किमती है

सफलता किमती है,

यह न मिलती आसानी से,

न मिलती बाज़ारों में,

न व्यर्थ बेठने से |
यह न आती बुलाने पर ,

लोग फिरते मारे ढूँढ़ते इस किमती चीज़ को,

परंतु यह बसा अपने अंदर

जो मिलता पसिना बहाने से |

– मनीषा कुमारी