Categories
comedy Musings

मच्छर

जाहाँ जाहाँ जाऊँ,
वहाँ वहाँ आये।
कोई उससे बात न करे,
फिर भी वो खून पी जाए।
अपनों से ज्यादा अब,
वही साथ निभाये।
बस बदले में थोड़ा सा,
खून पी जाए।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational

बाद में

बाद करते करते
दिन गुज़र जाता है।
बाद के इंतजार में
एक नया दिन उग आता है।
फिरसे शुरू हुआ ये,
बाद का सिलसिला।
बाद का वक्त तो
अब तक न मिला।
ये बाद का किला तो,
अब तक न गिरा।
बाद में कहना तो,
एक रोग बन गया।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings

खुद से उलझ पड़े

धीमी है दिल की धड़कन,
धीमी है साँसें।
बंद बंद सी आवाज़ है,
पुकारती हर ओर है।
देखती हर मोड़ पे,
रास्ते उलझ चुके।
इन उलझे रास्तों पे हम तो,
कुछ तो सुलझ चुके।
इस उलझन ने तो,
सब कुछ सुलझा दिया।
फिर भी हम तो,
खुद से उलझ पड़े।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational

मंजिल से मुलाकात

धीरे धीरे मिल रही,
मंजिलों के रास्ते।
अब लगता दूर नही,
ये मंजिल के रास्ते।
मेहनत अभी बाकी है,
अभी आगे जाना बाकी है।
दूर नही अब ये,
मंजिल से मुलाकातें।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings

यूँ छुप के चलना

यूँ छुप के चलना,
मजबूरी तो नही।
यूँ बचना संभलना,
आदत न थी।
कभी खुद पे बीतेगी
तो जानोगे कभी।
इस आज़ाद टुकड़े पर भी,
कितनी है पाबंदी।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings

दिल से निकली बातें

दिल से निकली बातें,
दिल छू जाती है।
कागज़ पे निकलते ही,
ये दिल जीत जाती है।
दिल ही दिल मे ख्याल आता है,
की दिल ही दिल से क्यों घबराता है।
बिन घबराए जब बात लिखूँ,
तो दिल यूँ ही संभल जाता है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Friendship Musings

मतलबी दोस्त

मन मानी वो करती रही,
काम अपना निकलती रही।
काम हो जाने पर,
गायब हुई कहीं।
फिर से मिली कहीं,
भटकते भटकते।
पूछा जब हाल चाल,
पहचान हमारी भूल गई।
जब पड़ी मुसीबत फिर से उसपे,
याद हमारी आ गई,
अब पुकारा उसने हमे।
और हमने उनकी तरफ
देखा भी नहीं।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings

बात करते करते

बात करते करते,

बात बदल जाती है।

यहाँ बातों की बातों से

मुलाकात नही होती,

और लोग तो लोगों से

बात कर रहे, मुलाकात की

यहाँ अपनी ही बातों की

कोई कीमत नही।

और लोग रिश्तों की,

कीमत बता रहे।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational

जिम्मेदारी

जिम्मेदारी उठाना सीखो
जिम्मेदारी लेना सीखो
जिम्मेदारी कोई भाड़ी शब्द नही,
जरा खुशी से आजमा के देखो।
जितना दूर भागोगे इससे,
उतना बर्बाद होगे देखो।
कईयों की उम्मीद है तुमसे,
यूँ जिम्मेदारी से खुदको न रोको।

– मनीषा कुमारी

Categories
Friendship

दोस्ती हमारी

दोस्ती हमारी पुरानी है,
सोने सी चमक ये देती है,
हीरों से अनमोल रिश्ता है,
लोगों को जो लगता है लगे
हमे हमेशा साथ रहना है।
दुनिया बिखरती है,
तो बिखरने दो
तुम साथ हो तो
हर मुश्किल कम लगती है
सच है कि दोस्ती अनमोल होती है।

– मनीषा कुमारी