Categories
Motivational

गुरु

बहोत सिखया है,
बहोत पढ़ाया है,
हर राह मुझे राह बताए है,
एक माँ की तरह मुझे
बहोत कुछ बताया है,
हर अनजान राहों से,
मुझ को निकाला है,
वो गुरु ही है जिसने
मुझे खूब पढ़ाया
मुझे आगे बढ़ाया है।

– मनीषा कुमारी

#जिंदगी #जीवन #लोग #कविता #हिंदी #हिन्दीकविता #life #lifepoetry #poetry #poetrylover #poet #poems #hindi #Hindipoetry #writers #writersofinstagram #writersofindia

Categories
Motivational

कलियाँ

कलियां भी खिल जाती हैं,
खुद ब खुद बस कोशिश करते ही।
तो क्यों जोड़ लगाता है इंसान,
कलियों को फूल बनाने में।
भले ही पता है उन्हें
बिखर जाएंगे वो
कुछ भी उनके करने से।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational

फूलों की खान

फूल खिले गुलदस्ते बने,
बनते बनते वो मिट गए।
उजड़ गए सारे बागीचे
अब फूल कहाँ से लाये।
जब सुनसान हुए
एक एक बागीचे।
तो समझ है आई,
की काश लगाए होते
फूलों के पौधे,
उखाड़ने के साथ,
तो आज खाली न होता
मैदान वीरान,
होते इसमें फूलों की खान।

– मनीषा कुमारी

#जिंदगी #जीवन #लोग #कविता #हिंदी #हिन्दीकविता #life #lifepoetry #poetry #poetrylover #poet #poems #hindi #Hindipoetry #writers #writersofinstagram #writersofindia

Categories
Motivational

सपनों की दुनिया में

सपनों की दुनिया में,
खोना अच्छा है।
कभी आराम करना भी
अच्छा है लेकिन,
इतना न खोना कभी
की खुद को ढूंढ न सको।
ढूँढली मंजिल जो तुमने
तो रास्तों को न छोड़ना।
कुछ देर रुके हो
अब आगे बढ़ते ही जाना।

– मनीषा कुमारी

#जिंदगी #जीवन #लोग #कविता #हिंदी #हिन्दीकविता #life #lifepoetry #poetry #poetrylover #poet #poems #hindi #Hindipoetry #writers #writersofinstagram #writersofindia #सपना #dreams #sucsess

Categories
Motivational

चाहते तो सब हैं…

चाहते तो सब हैं,
अच्छा बनना लेकिन,
बस अच्छाई अपनाने से
डरते हैं सब।
आज कल तो,
अच्छाई से लोग मुँह
मोड़ लिया करते हैं।
अच्छी बातों को तो,
बस हवा में उड़ा देते हैं।
बुरे को बुरा सही
अच्छे को सब सही।
तभी तो अनजान ही
अनजान का फायदा
उठा रहा खुशी खुशी।

– मनीषा कुमारी

#जिंदगी #जीवन #लोग #कविता #हिंदी #हिन्दीकविता #life #lifepoetry #poetry #poetrylover #poet #poems #hindi #Hindipoetry #writers #writersofinstagram #writersofindia

Categories
Motivational poetry

कुछ लोग

कुछ लोग बुरा होके,
बुरे ही रहते है।
खुद बुरे होते हैं,
दूसरों को भी बुरा ही समझते है।
खुद के घटिया दिमाग से,
औरों को दूषित करते है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

मूर्ख कहे, कि बुरे लोग

हम जान बुझ के हार गए,
वो हमे ताने देने लगे।
हमने उनसे माफी मांगी,
की कहीं झगड़ा न होजाये।
वो तो अपना अहम बताने लगे।
हम पीछे हट गए ,
कि बात न बढ़ जाय,
वो तो अपनी ताकत बताने लगे।
सच बात है कि ऐसे लोगों को
मूर्ख कहे, कि बुरे लोग,
ये बताना किसी,
नेक के बस की बात नही।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational

परवाह

ज़मीन तभी बंजर हो जाती है
जब कोई उसका,
ख्याल करने वाला न हो।
जैसे इंसान तभी तक बुरा है
जब तक कोई उसकी,
परवाह करने वाला न हो।

– मनीषा कुमारी

#जिंदगी #जीवन #लोग #कविता #हिंदी #हिन्दीकविता #life #lifepoetry #poetry #poetrylover #poet #poems #hindi #Hindipoetry #writers #writersofinstagram #writersofindia #प्रकृति #naturelove

Categories
Motivational

खुशी के पल

ख़ुशी के पल बनते नही
बनाये जाते है।
उसे ढूंढने की भूल न करना
वी खुद ही में समाए होते हैं।
खुद ही में खुश रहोगे,
तो हमेशा खुश रहोगे
वरना ढूंढने पर दो पल की हँसी
और फिर जिंदगी निराशा में फंसी।

– मनीषा कुमारी

#खुशी #life #poetry #poem #Hindipoetry #hindi #writersofindia #writersofinstagram

Categories
Motivational poetry

भगवान

बुरा वक्त चाहे
कितना भी बुरा हो
लेकिन माँ-बाप कभी
साथ नही छोड़ते।
ऊपर वाला भी बड़ा
मेहरबान रहता है,
उस वक्त जिस वक्त
किसी के माँ-बाप
साथ नही रहते।

– मनीषा कुमारी