Categories
Motivational

Book review of ” Cherish Loneliness “

Author – Sagar

Price – 49₹

Publisher – New life books

This book introduce loneliness very well. In this book we know about what is loneliness? , Why it is occurs? and how we over come from this loneliness? This book tell us that loneliness is a word which is created by ourselves means if we continuously thinking about our near and dear one which is not with you or forget about you after this you find yourself lonely so don’t think that much. If you are alone don’t feel lonely just thought positive that now you have a freedom to do what you want to do.

Never see yourself through the lens of others because it is your thought about yourself which matters most.

– Sagar

It means that never see yourself with other eyes or in other word we say never judge yourself with other personality. Don’t find happiness in any body else or any where because happiness is a thing which you find in yourself. You create happiness by yourself. Keep yourself busy as much as you can.

A recent research had shown social networking websites are reasons behind comparative, discrimination and makes one feel low. Don’t hook up yourself in the virtual world. Try to live in real world because only real world will give you a good satisfaction and help you to get out of this temporary virtual world. Author give some tips that divide your time, live your life fully before you die, learn to enjoy every moment of your life because all the people in the world get life only one time and never think about that outcome of result just keep going.

https://www.amazon.in/CHERISH-LONELINESS-Vidya-Sagar-ebook/dp/B083QTKJ2X

#Hindipoetry #poetry #writersofimstagram #writers #writersofindia

Categories
Motivational

Book review of “Emotional Intelligence “

Author- James W. Williams

Publisher- James W. Williams

E- book

Emotional intelligence is the way from which we can control our emotions or manage our emotions. It looks very small topic but it is make a big difference in relationship and self behaviour. This is a life long skill. Author explained the emotional intelligence like a course in which author devided it in various topic and chapter which is explained nicely.

Author James W. Williams said that in developing emotional intelligence first you have to know your self and understand others behavior and attitude. In this process you have to develop your listening skill because those who are naturally caring and compassionate are the most empathetic and that type of person easily sustain any pessimist type of people. Manage your self or control your emotions and express your emotions carefully or well mannerd. Also not overreact and be cooperative.

After controlling and managing your emotions you can able to respond any type of challenging situations. Some people who easily control, understand and manage their emotions are stress free and also become successful person. That type of people are empathic, confident, communicative, positive, and supportive which is the habbit of effective leaders. I always uses emotional intelligence in my life but after reading this book I am sure that I am right and that’s why I think that this book should be read by others too. Emotional intelligence has a major effect on the quality of your life.

To buy this book click this link below

https://amzn.to/2OGsTEF

#Hindipoetry #poetry #writersofimstagram #writers #writersofindia

Categories
Motivational

Review of ” The 7 keys to success”

Author – Will Edwards

Publisher – White Dove Books

E-book

To live a truly successful life, you do need to first have a dream and commit yourself to achievement then whole world start helping you to achieve your goal. Author explained this book very beautifully by decorating with stories which is based on real people like Footballer Rudy ruettiger, Joe etc. Author want say that after uplifting experience when you find out your dream by yourself then the universe does help you indeed to achieve your goal.

So, find yourself first because god send everybody in earth for any purpose. That’s why by the time author also realise that his inner hopes, dreams and deepest desires as being implanted by god then after that he started writing these type of books. So be positive and open minded to achieve your goal and you will also become one day successful person or businessman.

“To get greater benefits in future, you need to change what you are doing in the present in order to produce them”.

– Will Edwards

Faith is also a key of success. You have to use this key by having faith in something like you or in god. When you believe in yourself and in god then you have support of yourself and god. After that whenever you lose your hope somebody is with you for help. This truly a good book that’s why read it and also start follow this book. This book have specialty of stories of successful person which is much powerful then any other successful talk.

To buy click this link down below

//ws-in.amazon-adsystem.com/widgets/q?ServiceVersion=20070822&OneJS=1&Operation=GetAdHtml&MarketPlace=IN&source=ac&ref=qf_sp_asin_til&ad_type=product_link&tracking_id=manisha0c2-21&marketplace=amazon&region=IN&placement=B077PH661V&asins=B077PH661V&linkId=9218018cb3c0a57a68902c5250b6b210&show_border=false&link_opens_in_new_window=false&price_color=333333&title_color=0066c0&bg_color=ffffff

Categories
Motivational

Book review of ” विद्यर्थियों के लिए एकाग्रता का रहस्य”

लेखक – स्वामी पुरुषोत्तमाननंद

 प्रकाशक – स्वामी ब्रह्नस्थानन्द                अध्यक्ष, रामकृष्ण मठ               

रामकृष्ण आश्रम मार्ग, धंतोली,                  नागपुर – 440012                 rkmathnagpur.org

E- book

एकाग्रता सबके लिए जरूरी है चाहे वो इंसान जो भी कम करता हो या विद्यार्थी ही क्यों न हो। एकाग्रता भंग होते ही कोई दुर्घटना हो सकती है। अक्सर हमने लोगों की यह भी कहते सुना होगा कि नजर हटी दुर्घटना घटी। यानी एकाग्रता के भंग होते ही वे किसी दुर्घटना का रूप ले सकता है या तो कोई छोटी – मोटी समस्या उत्पन्न हो सकती है। एकाग्रता को कहीं से सीखना की जरूरत नही होती, एकाग्रता का विकास कई मुश्किल परिस्थितियों का सामना स्यम से करते रहने से हो जाता है। 


खुद को एकाग्र करने के लिए जरूरी है, अपने मन की सयमित रखना। कोई भी कार्य करने से पहले अपने मन को सयमित करके उस कार्य को सावधानी पूर्वक करने से ही कोई काम अच्छे से किया जा सकता है। किसी भी कार्य को अगर ध्यान के साथ निरंतर किया जाए तो ही अपने मन मस्तिष्क को जल्द ही एकाग्र किया जा सकता है। इस पुस्तक में अर्जुन द्वारा श्री कृष्ण जी से एकाग्रता पर पूछे गए प्रश्न का उतर श्री कृष्ण जी फवारा किस प्रकार दिया गया है इसका उल्लेख किया गया है साथ ही अन्य विद्वानों की भी चर्चा की गई है। लेखक ने मन की चंचल प्रवृत्ति और उसे काबू में कैसे किया जाए इसकी चर्चा की गई है। स्वामी पुरुषोत्तमाननंद जी ने अपनी इस पुस्तक में विद्यार्थी किस प्रकार अपने मन को एकाग्रचित करके आगे बढ़ सकते है इसका उल्लेख किया है साथ ही उन्होंने इसका कारण भी बताया है कि किसी विद्यार्थी में एकाग्रता का भाव क्यों नही होता है।

Categories
Motivational

Review of the ” पर्सनेलिटी डेवलोपमेंट कोर्स”

लेखक – सी. एम. श्रीवास्तव

प्रकाशक – मनोज पब्लिकेशनस, 761, मेन रोड, बुराड़ी, दिल्ली – 110084

ईमेल -info@manojpublications.com

वेबसाइट – http://www.manojpublications.com

मुल्य – 80 ₹


सी. एम. श्रीवास्तव जी ने इस पुस्तक में किसी व्यक्ति के व्येक्तित्व को विकसित करने के कई उपाए बताये है। व्येक्तित्व के विकास के लिए जो ज़रूरी तत्व होते है उसके आधार पर लेखक ने अध्यायों को बांटा है। आज कल तो व्यक्तित्व का विकास करना बहुत जरूरी हो गया है। अपने व्येक्तित्व का विकास करके हम अपने अंदर के कमियों को दूर कर सकते है। व्येक्तित्व के विकास के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है बातचीत का सलीका होना। साक्षात्कार देते समय भी सही तरह से बातचीत करके वे आत्मविश्वाश से साक्षात्कार को जिता जा सकता है। इस किताब को पढ़ने से पहले मुझमे भी कई कमियां थी जैसे आत्मविश्वाश की कमी होना आदि। इस किताब को पढ़ने के बाद मुझमे काफी बदलाव भी आये है। पहले मैं काम बोलती थी वैसे तो आज भी मुझे बोलना पसंद नही है लेकिन इस किताब को पढ़ने के बाद इतना तो किताब का असर हुआ ही कि मै अब बोलने  में इतना हिचकिचाती नही और मेरे अंदर भी बहोत गए है कि अब किसी चीज़ से इतना डरती नही। मेरे जैसे कई लोगों को देख है मेने जो अपनी बात किसी से कहने में हिचकिचाते है। अधिकतर लोग बातचीत करने में असफल है क्योंकि उन लोगों को बातचीत करने का सलीका नही पता होता है। किस मोके पर कोनसी बात कहना उचित है और कोनसी अनुचित है, इस बात का उन्हें ज्ञान नही होता एहि नही कुछ लोगों को तो बात करने की शुरुआत ही नही करनी अति। दूसरी तरफ कुछ ऐसे लोग होते है जो एक बार बोलना शुरू करते है तो बोलना बंद ही नही करते और दूसरों की सुनने पर कम से कम ध्यान देते हैं। ऐसे लोग जब बोलना प्राम्भ करते है, तो दूसरे लोग उनकी बातों पर धीरे – धीरे कम ध्यान देने लगते है। 
व्येक्तित्व के विकास के लिए हमे हर किसी की बातचीत को ध्यान से सुने। बातचीत करते समय अपनी बात के साथ दूसरों को भी बात करने का मौका दें, सामने वाले कि भी सुने। बातचीत करते समय अगर किसी ने अच्छी बात कही है तो उसकी तारीफ भी करनी चाहिए साथ ही किसी की बात के बीच मे बाधा न डालें। 
इस पुस्तक की मदद से आप अपनी कई आदतों वे कई प्रकार की कमियों को दूर किया जा सकता है। अच्छे गुण सबमें होते बस जरूरत होती है उसे जानने की ओर अपने अंदर विकसित करने की। इस पुस्तक में लेखक ने अपने क्रोध को कैसे काबू में रखे इस बारे में भी बताया है। इस पुस्तक की मदद से आप अपने व्येक्तित्व मे सुधार करके अपने को सफलता की ओर बढ़ा सकते है।