Categories
Motivational poetry

हादसे के पीछे का कारण

हर रोज़ शाम है होती
जैसे हर रोज़ डूबा देता है
कोई सूरज को दूर
ताली कभी
एक हाथ से नहीं बजती
हर हादसे के पीछे छुपा है
कारण घनघोर।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

Rituals

Our rituals gives us positivity,
To destroy negativity,
And grow relativity.
Religion is not a cavity,
It sends positivity,
To relax everybody,
And to destroy negativity.

– Manisha kumari

Categories
Musings poetry

कुछ नहीं लिखा

कुछ नहीं लिखा,
मगर ख्याल बहुत थे।
आसमाँ में बादल,
और यहाँ विचार बहोत थे।
छलक रही थी,
विचारों की नदियाँ,
लेकिन विचार,
आपस में भीड़ रहे थे।
कहने को विचार,
लिखने को, आपस लड़ रहे थे।
कुछ नहीं लिखा,
मगर ख्याल, बहुत आ रहे थे।

     – मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

घमंड लोगों का

घमंड लोगों का,
क्या तेज़ बोलता है।
दूसरों झुकने का,
हर मौका त्यार रहता है।
हमसे पहले फोन करवाकर,
वो अपने घमंड का
पहाड़ बनाता है।
सच में बचकाना पन,
कहाँ जा के खत्म होता है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

गरीबी

महँगाई के इस दौर में,
कहीं भुखमरी फेल रही,
तो कहीं इंतज़ार है,
दो वक्त रोटी की।
किसी को इंतज़ार है छत की,
तो कहीं,
अच्छे कपड़े पहनने की लालसा।
महँगाई के कारण,
हर इंसान परेशान है।
बढ़ती गरीबी का,
महँगाई ही राज़ है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Friendship Motivational poetry

दोस्तों के लिए

कभी उदास रहते हैं,
कभी खफ़ा रहते हैं,
किसी के लिए तो नाराज़ रहते हैं,
लेकिन नाराज़ होने की कोई बात नही।
क्योंकि हमेशा ही हम
अलग भाव रखते हैं।
दोस्तों के लिए तो
कभी गुस्से में,
तो कभी नाराज़,
या कभी मज़ाक करते हैं।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

आखरी पन्नों की बातें

कहानी किसी की,
कभी पूरी नही होती।
रह जाती हैं,
कई बातें अधूरी।
बातें किसी की,
पूरी नही होती।
आखरी पन्नों की,
बातें भी कभी – कभी,
दूसरे किताबों से शुरू है होती।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

आत्मविश्वास की पोटली

कुछ आभूषण,
आभूषण नही लगते
आत्मविश्वाश का
सागर लगते हैं।
दिल के हर ज्योति से निकलकर,
कोई न कोई बात
खास करते हैं।
कइयों को देखा है
निर्जीवों से जी लगाते,
आते जाते लोग
कहते हैं कई बातें,
फिर भी वो
आत्मविश्वास की पोटली,
आभूषण से लगाव रहता ही रहता है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational

किश्तें जिंदगी की

जिंदगी बहुत कीमती है, हर वक्त हर कोई बस जीने के लिए कार्य करता है। हर कोई बस इसी कोशिश में लगा रहता है कि वो अपने जीवन को और बेहतर कैसे कर सकता है। जैसा कि आप विषय में देख सकते हैं यहाँ पर कुछ किश्तों की बात की गई है।
यहाँ पर किश्तों से मतलब बैंकों की किश्त नहीं है बल्कि जिंदगी के किश्तों से है। यानी समय समय पर जो समस्याएँ आती है वो जिंदगी की किश्त ही तो है। जिसे हमें समय समय पर हल करनी यानी चुकानी पड़ती है। जिंदगी बिना समस्याओं की तो होती ही नही। हर समय कोई न कोई समस्या हमे घेरे रहती है। और जो इन समस्याओं को हल कर के वे सकारात्मक सोंच से समस्याओं को तोड़ देता है। वो ही सही मायने में जिंदगी की किश्त भर पाता है।
जो इन किश्तों को समय समय पर भर पता है बस वही सुखी रह पाता है। इसिलए बैंकों के किश्तों भरना न भरना आपकी मर्जी है। लेकिन किश्तों में जिंदगी गुजारना जरूरी है।
इसका मतलब ये नही की आप परेशानियों से घिरे रहे। इसका मतलब है अपने आप जो समस्याएँ आती हैं उसे हल करना है।

– मनीषा कुमारी