Categories
Motivational poetry

लिखने को शब्द….

लिखने को शब्द कम पड़ते हैं,
लिखने कागज़ कम पड़ते हैं।
सच ये है कि कुछ भी कम नही पड़ता बस, ख्याल कम पड़ते हैं।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

हाथों की लकीरें और पत्थर

हाथों की लकीरें और पत्थर,
दोनों को ही बदलना मुश्किल होता है।
लेकिन किसी न किसी दिन,
ये दोनों बदल के ही रेहते हैं।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

जिंदगी की रफ्तार

जिंदगी की रफ्तार कुछ धीमी हो गयी,
मंदी के दौर में घरबन्दी हो गयी।
मई के महीने में भी,
यहाँ ठंडी हो गयी।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

इंसान देख शेर…

आज एक इंसान को देख,
शेर घबरा गया।
बोला में सिर्फ
जंगल में राज़ करता हूँ,
सामने तो दुनिया पर
राज़ करने वाला आ रहा
उस इंसान को देख
शेर भी सीधा चलना सीख गया।
उस शेर ने अब,
बोलना छोड़ दिया।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

तुम्हारी आँखें तो नहीं बोलती…

तुम्हारी आँखें तो नहीं बोलती,
मगर भाई,
ये दिल सब कुछ जनता है।
तुम्हारा सुख दुख,
सब भाँप लेता है।
तुम्हारे बोलने से पहले,
हमे सब कुछ पता चल जाता है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

जिंदगी धुँआ है…

जिंदगी धूँआ है,
और लोग आँख मलते हैं।
खुद बीमारी फैलाते हैं,
खुद को शिकार कहते हैं।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

लोग बरसते हैं

लोग बरसते हैं,
बरसने के लिए।
हम गरजते हैं
गरजने के लिए।
लेकिन अब अपनी,
दुनिया ही अलग है।
हम छाँव लाते हैं,
बरसने के लिए,
गरजते सिर्फ तूफानों में हैं।
लोग चाहे बरसते हैं,
बरसने के लिए।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

कुछ बाकी है..

लिखना तो कुछ नही
लेकिन लिख कर भी
बहुत कुछ लिखना बाकी है।
कई शब्दों को पढ़ना,
कई किताबों को टटोलना बाकी है
नही है जिंदगी, फिर भी
जीना बाकी है।
हर मुश्किल के बाद भी
परेशान होना बाकी है।
उदास बहुत हैं,
लेकिन खुश होना बाकी है।
जिंदगी की राह में अभी,
बहुत दूर चलना बाकी है।
देखो कहीं,
जिंदगी रो तो नही रही,
अभी बहुत रूठना बाकी है।
जिंदगी की राह में
बहुत दूर चलना बाकी है
न जाने कौनसा गिला है हमें
की हमें गिर कर फिर,
उठना बाकी है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

हवा घूमती बहोत है

तूफानों से न पूछो,
हवा का रुख क्या है।
मोहल्ले भर में चर्चा है,
की हवा घूमती बहोत है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings poetry

नज़ारा मिला

यूँ बातों का हमे
गुब्बारा मिला,
आँधी का कोई
नज़ारा मिला,
हमारे बिना बोले ही
समुन्द्र में तूफान का
नज़ारा मिला।

           – मनीषा कुमारी