Categories
Motivational story

स्नोई के त्याग से बरसता प्यार

समुन्द्र की लेहरें जब उसके सामने आयी पहले तो वो सेहम गया, फिर समुन्द्र के लेहरों को शांत होते देख वो प्यारा सा कुत्ते का बच्चा खुशी से झूम उठा मानो, नई जिंदगी मिल गयी हो। इतने में उसका मालिक सनी वहाँ आ गया। उसका मालिक बहुत ही क्रूर था। हर वक्त वो अपने कुत्ते स्नोई को डाँटता रहता था, कभी – कभी तो वो उसे बहुत मरता – पिटता था।

घर लौटते वक्त अचानक सनी एक गाड़ी के सामने आ गया, इससे पहले सनी कुछ भी समझ पाता उसके कुत्ते ने उसे धक्का दे कर
उसके मालिक की जान बचा ली और खुद शाहिद हो गया।

जब उसके मालिक ने अपने कुत्ते के दिल में अपने मालिक के लिए प्यार देखा और उसके लिए जान देदी तब उसे ऐहसास हुआ कि वो कितना गलत था कि हर किसी को मारना पीटना ही प्यार समझता था। जब कि प्यार में तो त्याग की भावना होती है और वो अपने कुत्ते को कितना मरता पिटता था। ये सब देखने जानने के बाद वो वापस समुन्द्र के उस किनारे के पास चला गया जहाँ उसने अपने कुत्ते को खुश देखा था। और वो उसकी याद में हर दिन आता था और समुन्द्र की लेहरों के देख खुश होता था।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings story

वाह! कम होती दुनिया बहोत है..

वाह! कम होती दुनिया बहोत है,
लोग कहते जीवन में,
मिठास थोड़ी कम है।
थोड़ी सी परेशानी से,
दुनिया बदल जाती है।
खुद को बदलने से,
वो कुछ बदल जाते हैं।
कुछ कहने से अच्छा,
लोग कहते हैं,
वाह! कम होती दुनिया बहोत है।

– मनीषा कुमारी

Categories
microtale Motivational Musings story

The warrior mom

A shy Midwestern housewife with a happy marriage and two adorable children. But when a car accident reveals her husband’s secret life as a serial killer, she must remake herself as the warrior mom.

With her ex now in prison, Gwen has finally found refuge in a new home on remote Stillhouse Lake. Though still the target of stalkers and Internet trolls who think she had something to do with her husband’s crimes, Gwen dares to think her kids can finally grow up in peace.

But just when she’s starting to feel at ease in her new identity, a body turns up in the lake—and threatening letters start arriving from an all-too-familiar address. Gwen Proctor must keep friends close and enemies at bay to avoid being exposed—or watch her kids fall victim to a killer who takes pleasure in tormenting her. One thing is certain: she’s learned how to fight evil. And she’ll never stop.

Really awesome written by author who really give this story very much hard situation to this lady. This story is truly amazing with very much suspense.

Author – Rachel Caine

Publisher – Thomas and Mercer

Page – 301

Price – 114.79 ₹

To buy this click to this link https://www.amazon.in/gp/product/B01MFGX5GI/ref=as_li_tl?ie=UTF8&camp=3638&creative=24630&creativeASIN=B01MFGX5GI&linkCode=as2&tag=manisha0c2-21&linkId=1e853f1b1818bfff451b7b226863fae2 and buy it.

Categories
microtale Musings story

Queen of mahishmati (book 3)

Sivagami’s missteps have only deepened her determination to fulfil her father’s wish and stop the despicable activities at Gauriparvat. And so she battles on. Unknown to her, however, Maharaja Somadeva’s challengers have begun to close in on the king, and Sivagami finds herself suddenly at a disadvantage. With a player like Somadeva, though, the biggest mistake you can make is to not immediately checkmate and destroy. The game of chaturanga is not quite over.

As Sivagami takes on the kingdom’s enemies, guided by Somadeva, she finds in her own manoeuvres an echo of the man she has always detested. In her journey to becoming the queen of Mahishmathi, Sivagami must choose between love and ambition, principles and deviousness, selflessness and envy. What does she hold on to, what does she let go? A thrilling, breathless read, Queen of Mahishmathi is the third and final book in the Bāhubali: Before the Beginning series.

Author – Anand neelakantan

Publisher – westland

To buy this book click this link below https://www.amazon.in/gp/product/B08NJV7XV6/ref=as_li_tl?ie=UTF8&camp=3638&creative=24630&creativeASIN=B08NJV7XV6&linkCode=as2&tag=manisha0c2-21&linkId=cf559a9b3889456dd2910face2829217

Categories
microtale Motivational story

Growing fresh air

What, what is happening why I am choking. Dr please tell. Your lungs capacity had dropped to 70 percent. In other words, the 4 to 6 l of air my lungs could take in had now settle down to just a little more than 3 to 4 liters, Dr said. Means my lungs capacity is decreasing and I know that every one facing this problem. This is all because of benzene which is toxic and highly flammable and it is spreading in Delhi day by day. Dr gives e two option first is leave this city and move to cleaner and greener place. Other one is, stay back in Delhi and fight. Very beautifully author tell the story of Delhi pollution and more over he also tell us about how we can make our surrounding air fresh. That’s why author give this book title “How to grow fresh air”.

Author – Kamal Meattle & Barun Aggarwal

Publisher – JUGGERNAUT BOOKS KS house

Price – 129₹

To know the story please read the book by clicking this link :- https://www.amazon.in/gp/product/9386228904/ref=as_li_tl?ie=UTF8&camp=3638&creative=24630&creativeASIN=9386228904&linkCode=as2&tag=manisha0c2-21&linkId=5bc543b75b197fa21814ac49bc696af6

Categories
microtale Motivational story

Book review of ” A boy who can’t swim”

Author – RAVISH T. RAM

Price – 49₹

This book is based on love, career and suicide. In simple word we can say that this book is dedicated to lovers who have very bright life but suddenly they fell in love with a girl. But they can’t get success in love. In this book author started the story very well where three boys want to suicide. And author stop him then ask him about there suicide reason. He perfectly write and narrate the story like we are seeing that story in front of us.

This book is full of inspiring thoughts which can definitely change your life. Author said that every one have problems but we have to face it and become successful person.

So to read this book which have golden word’s then click to this link below :- https://www.amazon.in/gp/product/B08TWXPMR9/ref=as_li_tl?ie=UTF8&camp=3638&creative=24630&creativeASIN=B08TWXPMR9&linkCode=as2&tag=manisha0c2-21&linkId=45f59f791bdef955118cb3e85622388a

Categories
microtale story

वो आवाज़

(मोहन को कई दिनों से एक आवाज़ सुनाई दे रही थी।)वो..वो आवाज़… जो बार बार मेरे कानों से टकराती है। क्या है वो? लगता है कोई आया है। लेकिन मैं तो अकेला रहता हूँ। कौन होगा वो? चलो देखते हैं। (दरवाजा खुलते ही) कौन हो तुम? (अनजान इंसान घर में घुसते हुए) मैं.. मैं तुम्हारा दोस्त हूँ। पिछले साल ही तो मिले थे हम। फिर दोनों काफी देर तक बात करते रहे।पुरानी यादें ताज़ा करते रहे। दोस्त के घर से जाते ही, उसे याद आया कि ये तो छह महीने पहले ही मर ही किसी कारण से मर चुका था। वो दोबारा दरवाज़े की तरफ देखता है। कि वो दीवारों  के आरपार होता हुआ बाकी जगह घूम रहा है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry story

मणि और सनी

एक था मणि,
जिसका न कोई पहचान था,
जंगल जंगल भटकता था,
धीरे धीरे फिर पहचान बना
बनते बनते नाम बना।
आगे बढ़ा सपने सजाये,
लोग रोके तो भी न रुके,
सपनों को अपने गढ़ते जाए।
फिर उसका साथी आया,
नाम अपना सनी बताया।
सपने थे उसके भी बड़े,
लेकिन पल पल वो रो देता था।
मेहनत बहुत करता था,
लोगों से वो डरता था,
लोगों के कुछ कहने भर से,
मायूस वो हो जाता था।
मणि ने उससे दोस्ती की,
दिल की बात सनी ने कही।
मणि बहोत समझदार था,
उसने फिर सनी को समझाया,
दुनिया सारी शिक्षक हमारी,
लोगों की बातें गुरु हमारी,
खट्टी मीठी इसकी कहानी।
अच्छी सिख पास रख लेना,
बुरी बातों को नकार देना।
मंजिल है तुम्हारी खुद को बनाना,
अब आगे तुम बढ़ते जाना।
दोनों फिर साथ रहे,
सुख दुख सब बाँट लिए
खुद को बना आगे बढ़े।

– मनीषा कुमारी

Categories
comedy Motivational story

चलो कल भागते हैं

एक लड़की घर बैठे – बैठे बहोत परेशान रहती थी । वो बहोत दिनों से भागने के बारे में सोंचती रहती थी। फिर एक दिन अचानक उसे ख्याल आया कि आज भाग ही जाती हूँ इसलिए वो इसके लिए तैयारी करने लगी। लेकिन ऐसे करते करते उसे कई साल बीत गए क्योंकि तभी एक मुसीबत आ गयी। की उसे समझ नही आ रहा था कि वो भागे कहाँ इसलिए वो हर बार यही सोंच सोंच कर भागना टाल देती थी। और जब उसने निश्चेय कर ही लिया कि अब वो भाग कर रहेगी, तो फिर एक परेशानी ने उसे घेर लिया जिसके लिए उसे फिर एक साल लगे और वो परेशानी काफी गंभीर थी, कि उसका कोई साथी नही है जिसके साथ वो भागे। इसलिए उसने एक दिन निश्चय किया कि अब अकेले ही भागने जाया करेगी। क्यों कि सुबह – सुबह भागना सेहत के लिए अच्छा होता है।

– मनीषा कुमारी