Categories
Motivational Musings poetry

जानना तो हर कुछ था…

जनना तो हर कुछ था,
जाना भी बहोत कुछ था।
कई मंजिलों को टटोला था,
फिर भी हमे हर मंजिल से दूर होना था।
बातों की सेर में फंस कर,
यूँ हमे रोना था।
किसी को दोष दिये बिना ही,
हमे आगे बढ़ना था।
पास आकर भी हमे,
हर कुछ भूलना था।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

नाटक जारी है

नाटक जारी है,
कलाकार भी भारी हैं।
इस नाटक के दौर में,
सब एक कहानी है,
कुछ पूरी हैं कुछ बाकी है।
किरदार चाहे कई मिले,
पर हल्की सी चोट से,
हर कलाकार का
किरदार खराब जाता है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

वक्त सब बदलता है

सच में वक्त सब कुछ बदलता है,
इंसान बदलता है पहचान बदलता है।
लेकिन कभी कभी,
किसी की सोंच नही बदलती।
जिसे बदलने की जरूरत है,
वो इंसान नही बदलता।
उस इंसान को छोड़ कर,
हर इंसान बदल जाता है।
कुछ की याद बदल जाती हैं,
लेकिन वो इंसान नही बदलते।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings poetry

हमे बेकार बताने लगे

किसी को सहारा क्या दिया,
वो तो हमारे घर को अपना बताने लगे।
मना करने पर बात को,
हमे बेकार बताने लगे।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings poetry

रिश्ता

खत्म होता नही कुछ भी,
खत्म कर दिया जाता है।
लोग पहचान भूलते नही,
बस वक्त अच्छा हो जाता है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

क्यों न जी लें हम

क्यों न जी लें हम,
मिट जाने से पहले।
क्यों न संभल जाय हम,
गिरने से पहले।
हर खुशी को अपनाएं,
हर दुख को जान ले।
बर्बाद न करे कोई वक्त,
घड़ी को जानने से पहले।
तो क्यों न थोड़ा जी लें हम,
मिट जाने से पहले।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

दूसरों की बातें

जुबाँ से कही बात,
अधूरी भी होती है।
कानों से सुनी बात,
हमेशा पूरी नहीं होती।
बिना मोड़ के कोई,
रास्ता नही होता।
बिना पहेली के अगर
रास्ता मिल जाती तो
जिंदगी बड़ी आसान होती।
और तुम कहते हो,
दूसरों की बातें,
पूरी होती है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

हमने मंज़िल

हमने मंजिल छोटी चुनी,
तो हम लोगों को छोटे लगने लगे।
वहाँ तक तुम न पहोंच पाए,
तो हम तुम्हे नीच लगने लगे।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings poetry

मैं वो किताब हूँ

मैं वो किताब हूँ,
जिसे पढ़ना मुश्किल है,
पढ़लिया तो समझना मुश्किल है,
जान लिया बताना मुश्किल है।
तड़पता है दिल आँसूओं से,
इसे समझाना मुश्किल है।
खुद उलझें हैं,
इसलिए किसी को,
बताना मुश्किल है।
मैं वो किताब हूँ,
जिसे पढ़ना मुश्किल।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

कुछ लोग

कुछ लोग बुरा होके,
बुरे ही रहते है।
खुद बुरे होते हैं,
दूसरों को भी बुरा ही समझते है।
खुद के घटिया दिमाग से,
औरों को दूषित करते है।

– मनीषा कुमारी