Categories
Motivational poetry

शब्दों का नियंत्रण ज़रूरी है

शब्दों से मिलकर,
कहानी बनाते हैं,
कभी सच्ची
कभी झूटी बनाते हैं।
तुमने देखा होगा कईयों को,
कहानियों से लोग बदलते हैं।
कभी पिघलते हैं,
कभी बनते हैं
कभी बिगड़ते हैं।
कुछ लोग
सिर्फ शब्दों को महत्व देते हैं,
हर शब्द में लोग
बात ढूंढ लेते हैं
बात को फिर तोड़ मरोड़ देते हैं,
इन सब पर नियंत्रण रखना है
तो शब्दों पर नियंत्रण ज़रूरी है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

हँसी कमाल चीज़ है….

हँसी भी कमाल की चीज़ है,
किसी के सामने
बेमतलब मुस्कुरा के देखो ज़रा
वो इंसान सोंच में चला जाता है
नहीं चाहता कुछ
फिर भी किसी से
हाल चाल पूछ जाता है।
बेमतलब का ख्याल करना,
बस उसी वक्त आता है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

शुरुआत

शुरुआत हर वक्त अच्छी हो,
ये भी ज़रूरी नहीं,
शुरुआत कोई भी
कैसी भी हो
बस शुरुआत करनी चाहिए।
किसी भी मंजिल के बारे में,
जानने के लिए
सीढ़ी चढ़ना ज़रूरी है
उस मंजिल तक पहुंचना ज़रूरी है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

कभी कभी दिल….

कभी कभी दिल,
कितना बेचैन सा लगता है।
मन है जी भर के रोने का,
लेकिन रोना मुश्किल है।
कहना बहुत कुछ होता है,
लेकिन पता ही नहीं कैसे बोलू।
लेकिन जो होता है,
अच्छे के लिए ही होता है।
जाना तो किसी न किसी दिन है,
बस यही सोंच के
कुछ भी करती हूँ।
कभी – कभी अपने भावनाओं को,
बता ही नहीं पाती।
कुछ चीजें नियंत्रण में ही नहीं होती।
फिर सम्भालने की कोशिश पूरी करती हूँ।

– मनीषा कुमारी

Categories
microtale Motivational poetry

भूरा रंग बुरा बनता जा रहा…

नहीं है कुछ किसी के पास तो भी
कितना बोलते हैं।
जान पहचान है नहीं
बोलने को बोलते है
शादियों में जिंदगी से बड़ी
सुपारी और पैसे हो गए।
खुद भले काले रंगों से रंगे हो,
लेकिन दूसरों में सफेदी चाहिए।
दुनिया भूरी और लोग भूरे हैं
बस फर्क इतना हो गया
लोग भूरे के साथ साथ बुरे भी हो गए।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

काँटों के बगान

काँटें भी शान है, बगीचों के
काँटों के कारण ही,
नहीं बनती फूलों की जिंदगी वीरान।
आती है बहार तो,
महकाती है हर एक बाग।
लेकिन थोड़ी सी ज़रूरत के लिए,
लोग उजाड़ देते हैं,
पूरा एक बगान।
उनके लिए सबक है,
और फूलों के लिए रक्षक है,
ये काँटों के बगान।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

प्रकृति की ताकत

क्या करे परेशान हम भी है,
कभी दिन की दूप,
और कभी बरसात की ठंडी सताती है।
ठंडी में गर्मी के आने का,
और गर्मी में ठंडी का इंतजार हो रहा।
दोनो मौसम के साथ मे होने से
हम परेशान तो बहुत हैं,
लेकिन ऐसा होना भी ज़रूरी है
नही तो प्रकृति की ताकत को,
कोई नहीं समझ सकता।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

हम कामचोर नहीं….

करना बहुत कुछ है,
बस मन नहीं करता।
वक्त तो बहुत है,
लेकिन कुछ समझ नहीं आता।
तुम हम पर दोष लगाते हो,
लेकिन कभी तुमने भी तो,
कभी हमारे कर्म को नहीं देखा।
हमने जो भी किया,
तुमने कभी ध्यान नहीं दिया।
मेहनत रख दी तुम्हारे सामने,
और तुमने हमेशा नज़र अंदाज़ किया।
सही को तुमने जब गलत कहा,
हमने वो भी मान लिया।
हम आलसी नहीं,
बस खुद से ही नाराज़ हैं।
कामचोर नहीं हम तो
खुद में परेशान हैं।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

नाज़ुक दौर

नाज़ुक दौर तो सबका होता है,
उससे गुज़र सबको
आगे बढ़ना पड़ता है।
कोई आगे बढ़ जाता है,
तो कोई पीछे छूट जाता है।
जाने कोई क्यों,
कुछ चीजों से
उभर ही नहीं पाता है।
कभी हँसता है,
तो कभी रोता है।
कोई तो, दुनिया को
हर नज़र से देखते हैं
कुछ तो एक ही पल में
हार मान जाते हैं।
दुनिया उतनी छोटी नहीं
जितनी जल्दी लोग
हार मानते हैं।
एक बार प्रकृति के बारे में
जानना शुरू करो
देखना हार मानना भूल जाओगे।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational poetry

गहने कभी…..

गहने कभी
किसी की अच्छाई या बुराई नही दिखाते
किसी की अच्छाई या बुराई तो
उसके विचार बताते हैं
अगर गहने ही अच्छे बुरे का भेद बता देते
तो कभी रंग, जाती, धर्म में
भेद नही करते
सिर्फ गहनों देख कर ही
किसी के गुण बता देते।

– मनीषा कुमारी