Categories
Motivational Musings poetry

कुछ बाकी है..

लिखना तो कुछ नही
लेकिन लिख कर भी
बहुत कुछ लिखना बाकी है।
कई शब्दों को पढ़ना,
कई किताबों को टटोलना बाकी है
नही है जिंदगी, फिर भी
जीना बाकी है।
हर मुश्किल के बाद भी
परेशान होना बाकी है।
उदास बहुत हैं,
लेकिन खुश होना बाकी है।
जिंदगी की राह में अभी,
बहुत दूर चलना बाकी है।
देखो कहीं,
जिंदगी रो तो नही रही,
अभी बहुत रूठना बाकी है।
जिंदगी की राह में
बहुत दूर चलना बाकी है
न जाने कौनसा गिला है हमें
की हमें गिर कर फिर,
उठना बाकी है।

– मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

भावों की पकड़

दिन रात सोंचना,
भागदौड़ फिर सोंचना,
कभी खुश होना,
कभी रोना,
कभी कभी,
गुस्सा न बर्दाश्त होना,
चलना फिर रुक जाना,
सारे लक्षण हैं हमसे,
भावों की पकड़ का न होना।
भावों की पकड़ में इंसान,
बहोत शांत होता है।
भावनाओं में बहने से,
इंसान ही बह जाता है।
शांत से अशांत होजाना,
सारे लक्षण हैं हमसे,
भावों की पकड़ का न होना।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings poetry

नज़ारा मिला

यूँ बातों का हमे
गुब्बारा मिला,
आँधी का कोई
नज़ारा मिला,
हमारे बिना बोले ही
समुन्द्र में तूफान का
नज़ारा मिला।

           – मनीषा कुमारी

Categories
Musings poetry

प्रेरणा तुम

प्रेरणा तुम बनी नहीं,
बनाई गई हो।
हम तुम पर कुछ,
बोलना चाहते नहीं थे,
हमसे तो बुलवाया गया है।
प्रेरणा तुम हमारी बनी नही,
बनाई गई हो।
नही तो ख्यालों में भी,
तुम्हारा ज़िक्र नही था।
तुम तो खुद हमारे पास,
चल कर आई हो।
हमने तो ख्वाबों में भी,
तुम्हारा ज़िक्र न किया।
तुम साक्षात हमारा,
रोज़ नाम लिया करती हो।
तुम तो हमारे मुस्कुराहट का,
गुणगाण किया करती है।
प्रेरणा तुम बनी नही,
बनाई गई हो।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings poetry

चश्मे वाले

अभी तक तो न छू पाया,
कोई चश्मा हमे,
या हम चश्मे को।
न कभी आँखों ने,
चश्मा बरदाश्त किया।
बस कुछ पहेली सुलझानी है लोगों कि,
की कोई बिना चश्मे वाला,
आवारा नही होता।
ज़्यादातर चश्मे वाला,
पढ़ाकू नही होता।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings poetry

दिल से आवाज़ निकली

खुद के दिल से जो आवाज़ निकली,
बस वही जरूरी बात निकली।
कभी किसी के बातों को समझ कर भी,
हमसे कोई बात न निकली।
खुद के दिल से जो बात निकली,
बस वही बात खास निकली।
हर एक राज़ की बात में से,
निन्यानवे प्रतिशत अफवाह निकली।
खुद के दिल से जो आवाज़ निकली,
बस वही बात खास निकली।

– मनीषा कुमारी

Categories
Musings poetry

दो बातों के बीच

असमंजस में है मन,
किसी दो बातों के बीच,
की पा लिया सब कुछ
ये जिंदगी है,
की सब कुछ मिलता जा रहा,
ये जिंदगी है।

       – मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

सुंदर जीव

कबूतरों की जिंदगी में भी
बड़े हलचल हैं,
और हमे लगता है,
की सुंदर जीव ही
मजे से जीते हैं।
 
      – मनीषा कुमारी

Categories
Dairy Motivational Musings poetry

पता नही

देखो चाशनी जल रही,
अब तक मिठाई त्यार नही।
लोग तरस रहे प्यार को,
यहाँ प्यार क्या है वही पता नही।

       – मनीषा कुमारी

Categories
Motivational Musings poetry

यूँ ही कई बात….

यूँ ही कई बात,
सोंच लिया करते हैं।
यूँ ही कई राज़,
खोल लिया करते हैं।
शब्द को वाक्य के बेसन में लपेट कर,
बस पड़ोस दिया करते हैं।

     – मनीषा कुमारी