Categories
microtale Motivational Musings poetry

फूलों से जीवन

कभी खिलता कभी मुरझाता है,
हल्की हवा से गिर जाता है।
कभी खुशबू है,
कभी कीचड़ में मिलता है।
रंगों से पहचान है होती,
छोटे बड़े का भेद भी है होता।
सब कुछ इंसानों सा है होता,
फूलों जैसा हो गया है जीवन सबका।

– मनीषा कुमारी

Categories
microtale Motivational story

Growing fresh air

What, what is happening why I am choking. Dr please tell. Your lungs capacity had dropped to 70 percent. In other words, the 4 to 6 l of air my lungs could take in had now settle down to just a little more than 3 to 4 liters, Dr said. Means my lungs capacity is decreasing and I know that every one facing this problem. This is all because of benzene which is toxic and highly flammable and it is spreading in Delhi day by day. Dr gives e two option first is leave this city and move to cleaner and greener place. Other one is, stay back in Delhi and fight. Very beautifully author tell the story of Delhi pollution and more over he also tell us about how we can make our surrounding air fresh. That’s why author give this book title “How to grow fresh air”.

Author – Kamal Meattle & Barun Aggarwal

Publisher – JUGGERNAUT BOOKS KS house

Price – 129₹

To know the story please read the book by clicking this link :- https://www.amazon.in/gp/product/9386228904/ref=as_li_tl?ie=UTF8&camp=3638&creative=24630&creativeASIN=9386228904&linkCode=as2&tag=manisha0c2-21&linkId=5bc543b75b197fa21814ac49bc696af6

Categories
microtale Motivational Musings poetry

आखिर उसने कह दिया

आखिर उसने कह दिया,
जो उसे कहना था,
भले कह के भी कुछ न कहा।
बातों को अपनी,
बहोत छुपा के रखा।
जिन्हें नही बताना था,
उनको भी बताया।
जिसे बताना था,
उसी के पास मोन हो गया।

– मनीषा कुमारी

Categories
microtale Motivational poetry

हर घड़ी अवसर सुनहरा

हर घड़ी अवसर सुनहरा ,
सोंच अच्छी, हर वक्त सुनहरा,
लोग भटके की ये दुनिया हमारा,
वक्त के साथ कदम मिलाना,
दुनिया होगा तुम्हारा दिवाना।

– मनीषा कुमारी

Categories
microtale Musings poetry

जाने की शुरुआत हो चुकी

मुमकिन नही वापसी अब,
जाने की शुरुआत हो चुकी,
जाने की बात हो चुकी,
भुलाना हो गया किसी को।
मंजिल अब वो बंद हो गयी,
न सोंचना होगा उसे,ख्यालों में भी,
चाहे वो जाए दूर कितना भी।

– मनीषा कुमारी

Categories
microtale Motivational Musings poetry

तैयारी धार लगाने की

उलझें हैं ख्यालों में
सुलझने से है दुश्मनी।
लोग कहते हैं बीमारी है,
ये तो तैयारी है
दिमाग को धार लगाने की।

          – मनीषा कुमारी

Categories
microtale Motivational Musings poetry

कान के कच्चे

कान के कच्चे,
अकल से बच्चे,
अक्सर रो देते हैं।
कभी आगे बढ़ जाते हैं,
कभी हर बात को ये,
दिल पे लेते हैं।
सुनने की क्षमता नहीं रखते,
यूँ ही बिखर जाए हैं।
बात भले कोई और हो,
ये दिल पे ले लेते हैं।

         – मनीषा कुमारी

Categories
microtale Motivational poetry

इच्छाओं के काले बादल

फल की चिंता से ही
हर चिंता निमंत्रित है।
अकेला पन कुछ नहीं
इच्छाओं के काले बादल से,
हुआ ये छाँव है।
– मनीषा कुमारी

Categories
microtale Motivational story

Book review of ” A boy who can’t swim”

Author – RAVISH T. RAM

Price – 49₹

This book is based on love, career and suicide. In simple word we can say that this book is dedicated to lovers who have very bright life but suddenly they fell in love with a girl. But they can’t get success in love. In this book author started the story very well where three boys want to suicide. And author stop him then ask him about there suicide reason. He perfectly write and narrate the story like we are seeing that story in front of us.

This book is full of inspiring thoughts which can definitely change your life. Author said that every one have problems but we have to face it and become successful person.

So to read this book which have golden word’s then click to this link below :- https://www.amazon.in/gp/product/B08TWXPMR9/ref=as_li_tl?ie=UTF8&camp=3638&creative=24630&creativeASIN=B08TWXPMR9&linkCode=as2&tag=manisha0c2-21&linkId=45f59f791bdef955118cb3e85622388a

Categories
microtale Motivational poetry

बेचैनी

बेचैनी बहोत है,
पिंजरे को तोड़ जाने की,
मंजिल को हटा देने की,
हर बेड़ियों को समेट देने की,
हर तूफान को बढ़ा देने की,
लेकिन सब इतने मुश्किल लगते हैं की,
खुद निकलना मुश्किल हैं,
कहीं जाना मुश्किल है,
मजबूरी है कई बातों की,
नही तो होंसले हमारे कम नही।
          

– मनीषा कुमारी