Categories
Motivational poetry

चिड़ियों की चेचेअहट

चिड़ियों की चेहचेआहट

बहोत रंग लाती है।

हर बाग में फूल खिलाती है,

जब चाहे तब उड़ जाती है।

सीमा, जाती और धर्म

कोई न उसे बाँट सकता।

जब जी करे,

तब चेहेकती है

उसका चेहचेहना दिल को लुभाता है,

हर परेशानी को भुलाता है।

चिड़ियों का चेहेकना,

बहोत रंग लाता है।

– मनीषा कुमारी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s