Categories
Motivational poetry

ज़िम्मेदार इंसान

ज़्यादा हँसो तो,
पागल है
ज़्यादा दुखी हो
तो तनाव है।
इंसान तो,
हर वक्त बदनाम है।
कहने को,
जात – पात है
लड़ने को तो
हर वक्त तैयार है।
ऊपर बोली,
हर बात बेकार है।
अगर इंसान,
जिम्मेदार है।

     – मनीषा कुमारी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s