Categories
Motivational poetry

राजनीति एक सर्कस

सर्कस, राजनीति की
बहुत गहरी है।
राजनीति एक सर्कस है
ये बात सच्ची है।
लोग चाहे जो कहे
बस कोई न कोई
उदास कर ही देती है।
राजनीति सर्कस सी ही है,
दोनों ही,
कभी हँसाती हैं,
कभी रुलाती हैं।

– मनीषा कुमारी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s