Categories
Motivational poetry

छोटी सी बात पे इंसान….

कभी – कभी,
छोटी – छोटी दिक्कतें भी,
बड़ी – बड़ी तकलीफें बन जाती है।
छोटे से जुखाम में इंसान,
कितना बेचैन हो जाता है।
हर दर्द का इलाज पता हो,
तब भी कितना तड़पता है।
छोटी – छोटी दिक्कतों में भी,
बड़ी – बड़ी तकलीफें ढूंढ लेता है।
छोटी सी बात पे इंसान,
कितना बेचैन हो जाता है।

– मनीषा कुमारी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s