Categories
Motivational poetry

पतंग सी जिंदगी

माना शब्दों को हम
सम्भाल न पाए,
तो हम बेकार हो गये।
माना जिंदगी के साथ
हम चल न पाए,
बेकार हो गए।
कहने वाले तो,
बिन डोर के पतंग उड़ाते हैं,
पतंग सी जिंदगी,
कहाँ उड़ जाती है
कुछ पता ही नही चलता।

– मनीषा कुमारी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s