Categories
Motivational Musings poetry

आँखों की नमी

उदासी कम नही होत,
आँखों की नमी,
कभी खत्म नही होती।
आँखों की तकलीफें ,
सिर्फ दिल जानता है।
इंसान तो खुद के ही,
आँखों की नमी से अनजान रहता है।

– मनीषा कुमारी

2 replies on “आँखों की नमी”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s