Categories
Motivational Musings poetry

क्यों न जी लें हम

क्यों न जी लें हम,
मिट जाने से पहले।
क्यों न संभल जाय हम,
गिरने से पहले।
हर खुशी को अपनाएं,
हर दुख को जान ले।
बर्बाद न करे कोई वक्त,
घड़ी को जानने से पहले।
तो क्यों न थोड़ा जी लें हम,
मिट जाने से पहले।

– मनीषा कुमारी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s