Categories
Musings

सफर जारी है तुमसे ही..

जिंदगी की शुरुआत तुमने की थी,
जिंदगी से हारे  तुम थे।
हम यूँ ही आ गए थे,
हमे जिंदगी में लाये तुम थे।
सही कहा है कि,
दिल की बात क्या कहूँ,
कि शुरुआत तुमसे की थी,
और सफर भी जारी है तुमसे।

– मनीषा कुमारी

By Manisha

writing gives power to me

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s