Categories
Motivational

छोटू हिप्पो

#जिंदगी #जीवन #लोग #कविता #हिंदी #हिन्दीकविता #life #lifepoetry #poetry #poetrylover #poet #poems #hindi #Hindipoetry #writers #writersofinstagram #writersofindia

हिप्पो जो कि बहोत गुस्से और भारी वजन वाला होता है। जो कि पानी के मुकाबले ज़मीन पर धीरे चल पाता है साथ ही इन्हें गुस्सा बहोत जल्दी आता है। लेकिन ये वाला हिप्पो कुछ अलग था। इसे फुर्ती बहोत पसंद थी और दूसरों की मदद करना तो इसे बहोत पसंद था।
लेकिन भले ही इसे फुर्ती पसंद थी लेकिन इसके वजन के कारण छोटू हिप्पो कुछ खास फुर्ती दिखा नही पाता था। उनके हिप्पो झुंड के पास ही एक ज़ेबरा का झुंड रहता था। जो कि बहोत फुर्ती वाले होते हैं। चूंकि हिप्पो परिवार में सभी वजनदार होते हैं इसलिए कुछ जानवर उनका मज़ाक उड़ाते थे। इसलिए छोटू हिप्पो ने चुपके से ज़ेब्रा के बारे में जानना शुरु कर दिया जिससे वो जान सके उन लोगों के फुर्तीला होने का राज क्या है? तभी उसे पता लगा कि उनके फुर्तीले होने का कारण हमेशा भागने का अभ्यास करना है।
ये जानते ही छोटू हिप्पो जल्दी से अपनी मम्मी पापा के पास गया और उनसे हमेशा दौड़ने के अभ्यास के लिए आज्ञा मांगने गया। चूंकि हिप्पो परिवार काफी कडक़ स्वभाव के होते हैं। इसलिए उन्होंने उसे मना कर दिया। लेकिन छोटू हिप्पो ने हार नही मानी और चुपके से भागने का प्रयास करने लगा लेकिन इस करने पर उसकी सेहत बिगड़ गयी। इस बात का जब उसके माँ पापा को लगा तो उन्होंने उसे समझया की सबकी अपनी अपनी फिरती और ताकत होती है। और कई ताकत तो बड़े होने के साथ अपने आप बढ़ती है। हमारा बस मन साफ होने चाहिए। तभी थोड़ा मायूस जरूर हुआ लेकिन वो धीरे धीरे बड़े होते होते सब समझने लगा।
अब वो बड़ा और शक्तिशाली हिप्पो बन चुका था। एक दिन की बात है जब हिप्पो परिवार और बाकी हिप्पो पास के जलाशय में थे तब उनके साथ ज़ेबरा का झुंड भी था जो वहाँ पानी पीने आया था। तभी एक घटना घटी ज़ेबरा के सभी सदस्य पानी पी कर चले गए लेकिन एक ज़ेबरा रह गए। उसे अकेला पा के एक मगरमच्छ उसके करीब आने लगा इस बात का पता उसी तालाब में ठहरे हिप्पो को हो गया। उसे बचाने के लिए वही छोटू हिप्पो आगे बढ़ा और ये वही शरारती ज़ेबरा था जो हिप्पो का मजाक उड़ाता था। लेकिन इसके बारे सोंचे बिना उसने पानी मे जल्दी से भाग कर मगरमच्छ को उधार से भगा दिया और ज़ेबरा की जान बचा ली।
सच में, हमे इससे पता लगता है कि किसी के वजन या फुर्तीले होने या न होने से कोई फर्क नही पड़ता बस मन साफ होने चाहिए और हर किसी के बारे में अच्छा सोंच सके इतनी अच्छी सोच होनी चाहिए।

– मनीषा कुमारी

By Manisha

writing gives power to me

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s