Categories
Motivational

दयालु मोर

एक सुंदर और प्यारा सा मौर था जिसकी सुंदरता पूरे जंगल में सभी जानवर से सुंदर था। वो मौर बहुत दयालु, नैक और बड़े दिल वाला था। उसकी सुंदरता के कारण कई लोग उससे जलते थे, लेकिन कई लोग उसे पसंद भी करते थे। उन जलने वालों को उसकी अच्छाई से कोई मतलब नही था। सिर्फ उसकी सुंदरता से जलते रहते थे। कुछ लोग तो यूँ ही उसे सामने से ताने सुना कर चल दिया करते थे। इस वजह से मौर थोड़ी दैर के लिए दुखी हो जाता था लेकिन फिर वो अपनी किसी भूल का प्रयाश्चित समझ कर सह लेता था।

लेकिन जब लाख सुधार करने पर भी कुछ नही हुआ तो उसने उन लोगों को जवाब देना शुरू कर दिया। उसे लगा कि इससे वो सभी चुप हो जाएंगे। लेकिन इस वजह से उसे और ज़्यादा ताने सुन्ने पड़े इन सब से तंग आकर उसने खुद के रूप को तहस नहस कर दिया, इससे उसे काफी चोटें आई वो कमज़ोर पड़ गया। उसकी खूबसूरती मिट गई लेकिन उसकी अच्छाई अब भी जिंदा थी।

मौर ने ये सब उन सबको खुश करने के लिए किया था जो उससे न खुश थे। कुछ देर बाद उसे पता लगता है की वे लोग जो उसे ताने देते थे अब वो उसे कोसने लगे कि ऐसे बतसुरत को तो जीवित ही नही रहना नही चाहिए, इसे तो यहाँ से भगा देना चाहिए। इससे मौर बहोत उदास हो गया और इस वजह से उसने कहीं भी आना जाना बंद कर दिया। जब कई हफ्तों तक उसके दोस्त मिठू ने, जो कि एक तोता है मौर से मिलने की सोंचा। जब वो अपने दोस्त के पास जाने के लिए निकला तो उसने अपने दोस्त के बारे कई बातें सुनी। वो लोग उसके दोस्त के बारे में कई अच्छी बुरी बातें बोल रहे थे एक ने तो तोते को ये भी बताया कि उसका दोस्त मौर कई दिनों से घर से बाहर ही नही निकला है। तब मिठू को चिंता होने लगी और वो अपने दोस्त के पास जल्दी से पहोंचा।

उसके घर पहोंच कर उसने मौर का हाल पूछा तब उसने आप बीती सुनाई। इस बात पर तोते ने उससे सवाल पूछा की तुम अपने लिया जीना चाहते हो कि दूसरों के लिए। क्योंकि खुद के लिए जी कर दूसरों को खुश रखना मुश्किल है क्यूंकि आज तक जिसने भी ये कोशिश की है वो निराश होकर ही जिंदगी से विदा ले जाता है। खुद पर विश्वाश रख कर आगे बढ़ोगे तो कई लोग तुमसे जलेंगे और कई ऐसे भी होंगे जो तुमसे बहोत खुश होंगे इसलिए दूसरों पे ध्यान देने के बजाए खुद की प्रगति पर ध्यान दो। और मुझे पूरा विश्वाश है कि तुम बहोत नेक काम करते हो और करते रहोगे। ये बात सुन मौर में बहोत हिम्मत आगई और उसने कई अच्छे अच्छे काम किये। पग पग होने वाली हर परेशानी को शिक्षिक बना कर आगे बढ़ा और आलोचकों पर ध्यान न देते हुए उनसे भी सीखा। इस बात के लिए आज भी वो अपने दोस्त तोते को धन्येवाद करता है।

By Manisha

writing gives power to me

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s