Categories
Motivational poetry

वो तो एक उजाला है

वो तो एक उजाला है,
नदियों की बहती धारा है,
कभी तेज कभी मंद है।
चिड़ियों की चह – चहाट है,
वो झरने का पानी है,
पेड़ो की हरियाली है ,
कभी सुखी कभी निराली है।
समुन्द्र की गहराई है ,
आसमान की ऊंचाई है,
शक्तियों का उजला है वो ,
ईश्वर के समान है,
वो तो एक अदभुत कला है।

– मनीषा कुमारी

By Manisha

writing gives power to me

3 replies on “वो तो एक उजाला है”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s