Categories
Motivational poetry

जिंदगी

शायर हम नही ,

यह जिंदगी बनाती है ।

कवियों को कवि ,

यह हालात बनाती है।

तकदीर बदलती मुसीबतें,

यह सांप सीढ़ी का खेल है।

जाने अनजाने में ,

खेल जाती कई दाव है।

क्या कहे सुख दुख को

यही जिंदगी कहलाती है।

– मनीषा कुमारी

By Manisha

writing gives power to me

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s